Intezaar

इंतज़ार नही करना चाहती
मगर दिल नही
मानाता

हर घड़ी दर लगा रहता है,
अगर इंतज़ार नह करो
तोह?
हर आहट से उम्मीद लगा
बैठी हूँ मैं, मगर दिल में
दर बैठा है।

अगर इंतज़ार नह करो
तोह? आंसूं सूख chuke
hai , दिमाग थक चूका है।
मगर में आस अभी है,
उसके आने कि।


लेकिन दर रहता है, इस
बात का, अगर इंतज़ार
नह करो तोह? और वोह
आये और बिन बताए
चले जाये?

तोह क्या हुआ, अब
आंखों में आँसू नही
आते, उसका इंतज़ार
तोह है।
कोई आहट उसकी
नही है, उम्मीद तोह
है।

Read Related Posts

Related Posts with Thumbnails

Read More

#Sorry not sorry

Bound and Unbound.

Deafening Silence

I Wonder What Ants do on Rainy Days…

Letters to the Unbeloved #10